movie Veerana based on a true incident

फिल्म वीराना {Veerana} को जिस भी व्यक्ति ने देखा । वह फिल्म को भूल ना सका । यह फिल्म 80 के दशक की सबसे डरावनी फिल्मों में गिनी गई । इसमें उपस्थित लीड हीरोइन “जैस्मिन ( jasmine actress)” जितनी ही खूबसूरत थी । उतनी ही डरावनी भी थी । लोगों ने इनकी डरावने अंदाज़ को खूब पसंद किया । बता दें, आज भी टेलिविज़न पर जब भी वीराना फिल्म प्रसारित की जाती है । तो लोग बड़े ही उत्साह से देखते हैं ।

इसमें उपस्थित अलग-अलग किरदार डायरेक्टर “रामसे ब्रदर्स” द्वारा उत्पन्न किए गए थे । क्या आप जानते हैं । यह सत्य घटना पर आधारित फिल्म थी । 80 के दशक में ‘रामसे ब्रदर्स’ डरावनी फिल्मों के लिए जाने जाते थे । उन्होंने 70 व 80 के दशक में 45 से फिल्मों में भी अधिक फिल्मों में डायरेक्शन का काम किया । लेकिन उन्हें मुख्यता हॉरर फिल्मों के लिए जाना गया ।

बहुत लोगों को आज भी फिल्म ‘वीराना’ डरा कर रख देती है । यह फिल्म 1983 की एक सच्ची घटना सच्ची पर आधारित थी (movie Veerana based on a true incident) । वह किस्सा इस प्रकार था । जब “श्याम रामसे” के साथ कुछ ऐसी घटना घटित हुई । जिसे उन्होंने एक एक पर्दे पर प्रस्तुत किया । और वह सर्वाधिक प्रचलित हुई । जब फिल्म “पुराना मंदिर” की शूटिंग को खत्म हो चुकी थी । और सारी टीम मुंबई लौट गई । लेकिन “श्याम रामसे” ने वहां पर कुछ समय रुकने का मन बना लिया था ।

 jasmine actress

और वह कुछ समय रुकने के पश्चात, काली रात अंधेरे में वह अपनी कार से मुंबई आ रहे थे । तभी सड़क पर खड़ी एक महिला उनसे लिफ्ट मांगती है । जिसकी मदद करने के लिए उन्होंने कार रोक दी । बता दें, वह महिला सफेद कलर की साड़ी पहने हुए थी । वह महिला आगे वाली सीट पर बैठ गई । ‘श्याम रामसे’ ने उनसे बात करने का प्रयास किया । लेकिन उस महिला ने एक शब्द भी नहीं बोला ।

ये भी पढे … अक्षय कुमार के धोखे से छलका शिल्पा शेट्टी का दर्द । उन्होंने कहा अक्षय कुमार ने मेरा इस्तेमाल किया है ।

श्याम रामसे ने कई बार उस महिला से कहा कि, आप कहां जाएंगी । लेकिन उसने कुछ नहीं कहा । जिससे श्याम रामसे थोड़ा सा घबरा गए । और वह उसके चेहरे की तरफ देखने लगे । लेकिन उसने अपने चेहरे को साड़ी के पल्लू से धक रखा था । ‘श्याम रामसे’ के अनुसार वह बहुत ही खूबसूरत महिला लग रही थी । क्योंकि उसका कुछ फेस दिख रहा था ।

काफी समय बीत जाने के पश्चात जब उस महिला ने कुछ नहीं बोला । तब उन्होंने महिला के पैर की तरफ देखा । तो उसके पैर पीछे की तरफ मुड़े हुए थे । जिस कारण श्याम राम से बहुत ही भयभीत हुए । और उन्होंने तुरंत ही कार को रोक दिया । जिस कारण महिला ने उनकी तरफ देखा । और देखते ही वह अंधेरे में कहीं गायब हो गई ।

यह घटना “श्याम रामसे (Shyam Ramsay)” के साथ घटित हुई । इस घटना के 5 साल बाद उन्होंने फिल्म ‘वीराना‘ {Veerana} को बनाया । और उसे 1988 में भारतीय सिनेमा घरों में रिलीज किया गया । और यह सर्वाधिक प्रसिद्ध फिल्म साबित हुई । जिसमें लीड हीरोइन जैस्मिन रातों रात स्टार बना दिया ।

“श्याम रामसे” के साथ घटित इस घटना में कितनी सच्चाई है । अभी यह तो स्वयं श्याम रामसे ही जानते होंगे । लेकिन “फतेहचंद रामसे” की पोती “अलीता प्रीति कृपलानी” ने अपने द्वारा लिखित एक पुस्तक “घोस्ट इन और बैकयार्ड” इस घटना को वर्णित किया है ।

ये भी पढे …. “अर्जुन रामपाल” की बेटी के आगे फीकी है, बॉलीवुड की अधिकतर अभिनेत्रियां ।

2 thoughts on “क्या फिल्म “वीराना” सच्ची घटना पर आधारित एक थी । ऐसा क्या घटित हुआ था । ‘मेकर’ के साथ की उन्होंने फिल्म बना दी ।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.