true story

इस कहानी की शुरुआत में डेविड नाम की एक अमेरिकी 16 वर्षी छात्र को प्रदर्शित किया गया है । वह एक साधारण बालक है । जो की अमेरिका के वॉशिंगटन डीसी में रहता है । वह रोज स्कूल जाता । और अपने द्वारा सभी कार्यों को पूर्ण रूप से करता है । डेविड अपने स्कूल का एक होनहार छात्र है । एक दिन की बात है, जब वह अपने स्कूल गया । तब उसके कुछ दोस्तों ने उसके साथ बुली की । और डेविड को अकेला पाकर खूब मारा । जिसके बाद वह कुछ महीने के लिए अस्पताल में भरती हो गया । अस्पताल से वापस आने के बाद उसने स्कूल जाने से माना कर दिया । और घर पर ही रहने लगा । ऐसे करते करते कुछ दिन बीत गए ।

एक दिन उसने हाइकिंग (hiking) करने का प्लान बनाया । और कुछ साजों समान लेकर पहाड़ों की तरफ निकल गया । उस समय अमेरिका में हाइकिंग का बहुत ही क्रेज़ चल रहा था । डेविड अपने साथ जरूरी का कुछ समान लाया था । और वह अकेले ही इस सफर में निकल पड़ा । डेविड पहाड़ी एरिया में चल रहा था । और लगातार अपने पास उपस्थित खाने पीने चीजों का इस्तेमाल भी कर रहा था । काफी दूर निकल जाने के बाद वह एक पहाड़ी के पास पहुंचता है । और उसे पार करने की कोशिश करने लगता है ।

आधी दूरी पर पहुंच जाने के बाद वह अपना हुक पहाड़ियों के छेद में फंसा देता है । जिससे वह थोड़ी देर आराम कर सके । लेकिन उसका हुक अचानक फिसल जाता है । जिससे डेविड लड़खड़ाते-लड़खड़ाते नीचे खाई में गिरता है । हालांकि डेविड की जान नहीं जाती है । लेकिन उसका पैर बुरी तरह एक चट्टान के नीचे फस जाता है । जिसके बाद डेविड घंटो उस चट्टान को हटाने का प्रयास करता है । लेकिन वह चट्टान बहुत बड़ी होती है । जिस कारण उसे हटा पाने में डेविड असमर्थ रहता है । इसी प्रकार एक दिन गुजर जाते हैं । वह वही फसा रहता है ।

अब डेविड को वहां पर फंसे रहते रहते 3 दिन गुजर चुके थे । और उसके पास उपलब्ध खाने पीने की चीजें खत्म हो चुकी थी । अब सिचुएशन (situation) यह थी । कि पानी ना मिलने की वजह से उसकी की मेंटल अवस्था खराब होने लगी थी । जिस कारण उसे अपना ही यूरिन पीना पड़ता है । इसी प्रकार 2 दिन और गुजर जाते हैं । और अब उसे फंसे रहते हुए 5 दिन हो चुके थे । डेविड को समझ में आ गया था । अब उसे कोई बचाने नहीं आएगा । और उसे कोई ठोस कदम उठाना होगा ।

डेविस के पास एक मोबाइल था । जिसे वह हाइकिंग के दौरान लाया था । लेकिन जब वह पहाड़ी से गिरा तो, वह मोबाइल पुरी तरह टूट चुका था । जिस कारण डेविड किसी को अपनी परिस्थिति के विषय में नहीं बता सकता था । अब उसे ही स्वयं फैसला करना था । उसने फैसला किया । कि वह अपना पैर काट देगा । और इस चट्टान से निकलकर वह अपने कैंप तक जाएगा ।

डेविड ने अपने साजो समान से एक छोटी सी नाइफ (knife) को निकाला । जिससे उसने अपने पैर के घुटने के नीचे वाले भाग को काट दिया । जिस कारण डेविड को बहुत ही दर्द हुआ । इस दर्द से वह बहुत जोर से चिल्लाया । और 1 या 2 मिनट के लिए वह मूर्छित अवस्था में चला गया । उसके पश्चात उसने कपड़ों से अपने पैर को पूरी तरह कस के बंद लिया । जिससे खून बहना बंद हो सके । और डेविड उस खाई से अपने हाथों के बल निकाला ।

डेविड को पता था कि, उसका कैंप ज्यादा दूर नहीं है । और उसने रेंग-रेंग कर 3 किलोमीटर एरिया को क्रॉस किया । हालांकि इस एरिया को पार करने के लिए डेविड ने बेताशा दर्द झेला । लेकिन वह भले ही 16 वर्षी बालक हो, मगर उसमे जीने की इच्छा प्रबल थी । जिस कारण वह 3 किलोमीटर एरिया को पार करने के लिए एक दिन पूरा कड़ी धूप में रेंगता रहा । और आसपास मिल रहे कीड़े मकोड़े को खाकर तथा यूरिन को पीकर जिंदा रहा ।

true story

जब वह अपने कैंप के पास पहुंचा । तो उसकी हालत देखकर लोगों को यकीन नहीं हुआ । जल्द ही उसे हॉस्पिटल ले जया गया । और कुछ इलाज के बाद वह बिल्कुल ठीक हो गया । हालांकि इस हादसे में उसने अपने पैर गवा दिए । लेकिन उसने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि “वह मेरे 7 दिन सबसे कठिन दिन रहे हैं । उन दिनों ने मुझे इस धरती पर कैसे जीना है । यह सिखा दिया । मैं आज अपनी जिंदगी से बहुत ही प्यार करता हूं ।”

यह कहानी पूर्ण रूप से डेविड की है । और यह एक सच्ची घटना (true story) पर आधारित है । जिसे अमेरिका में न्यूज़पेपर की हेडलाइंस में छापा गया । और डेविड को सम्मानित किया गया । आप इस कहानी से प्रेरणा ले सकते हैं। कि जीवन में परिस्थितियां कैसी भी हो, हार मान लेना समस्या का हाल नहीं होता है । बल्कि हमे हर समस्या तरीका ढूंढते ही रहना चाहिए । जिससे की उन परिस्थितियों से निकाला जा सके ।हार कभी ना माने, क्योंकि जिस दिन आप हार मान लेते हैं । उस दिन ही आपका अंत हो जाता है ।

One thought on “एक ऐसी सच्ची कहानी, जो आपके अंदर परेशानियों से लड़ने तथा जीने के जज्बे को बढ़ा देगी ।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.