The daughters of the Mandi tribe are married to their fathers

कुछ प्राचीन प्रथाएं मानव समाज के कल्याण के लिए बनाई गई थी । लेकिन अब इस विकसित समाज में उन प्रथाओं का महत्व नहीं रह गया है । लेकिन कुछ जनजाति अभी भी हैं । जो कि उनको प्रथाओं को अपनाकर चल रही हैं । ऐसी ही एक प्रथा मंडी जनजाति में आज भी प्रचलित है । जिसमें बेटी को अपने पिता से शादी करनी पड़ती है । क्या है पूरा माजरा चलिए जानते हैं ।

और अंग्रेजी वेबसाइट गार्डन के मुताबिक यह कुप्रथा “बांग्लादेश” के “मंडी जनजाति” में आज भी देखने को मिलती है । वहां पर उपस्थित स्थानीय निवासी “ओरोला” के मुताबिक उसकी मां की पहले पति की मृत्यु कम उम्र में ही हो गई थी । जिसके पश्चात उसके शादी दूसरे पुरुष से कर दी गई ।

ओरोला बताती हैं, जैसे जैसे नौजवान हो वैसे वैसे मेरे मां के पति ही मेरे पति बन गए । यह प्रथा पिछले कई सालों से मेरे साथ और यह जनजाति से साथ जुड़ी हुई है । कि जब किसी कम उम्र की महिला का पति मर जाता है । और उसकी शादी किसी दूसरे पुरुष से करा दी जाती है । तो उससे उत्पन्न होने वाली बेटी भी उस पुरुष की पत्नी होती है ।

ये भी पढे………. ‘जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप’ ने ढूंढा पृथ्वी जैसा गृह और वहां पर पानी भी पाया गया ।

हालांकि आज उन्नत समाज में इस प्रथा का कोई महत्व नहीं रह गया है । लेकिन फिर भी बांग्लादेश की मंडी जनजाति में यह पता आज भी देखने को मिलती है । और सदियों से चली आ रही है । यकीनन एक कुप्रथा है । और इस पर सरकार तथा शासन जरूर नियंत्रण करेगी ।

क्योंकि इससे समाज में जहां पिता और बेटी का दर्जा एक अलग मायने प्रदान करता है । पिता बेटी को बहन के समान होता है । और उससे राखी भी बनवाता है । पिता अपनी बेटी को पढ़ाता लिखाता और सभ्य बनाकर किसी और के हाथों में सौंप देता है । जिससे वह अपना परिवार बढ़ा सकें । यह पिता का कर्तव्य होता है । यही हमारा उन्नत समाज है ।

ये भी पढे………. कानपुर के खेरेश्वर मंदिर का रहस्य गहरा होता जा रहा है । आज भी कई जगह विस्मयकारी घटना देखने को मिल रही है ।

One thought on “मंडी जनजाति की यह प्रथा के कारण बेटियों को अपने पिता से शादी करनी पड़ती है । आप भी जाने पूरा माजरा ।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.